किसान अधिकार पदयात्रा का समापन

JABALPUR: किसानों की मूलभूत समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर इंदौर के राजबाडा से 14 मई को प्रारंभ हुई किसान अधिकार पदयात्रा का समापन आज दिनांक 21 मई 2018 को भोपाल के शाहजहांनी पार्क में हुआ। प्रदेश सचिव जगदीश रावलिया ने बताया कि बाजार में खाद. बीज, दवाई, डीजल, मजदूरी सहित किसानी के काम में आऩे वाली सभी वस्तुओं के दामों में भारी इजाफा हो रहा है इसके उल्टे किसानो की फसलों के दामों में भारी गिरावट आ रही है। फलस्वरुप खेती किसानी छोडकर कृषक आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे है। जिसके चलते किसान समाज में भारी आक्रोश है। किसान सेना के प्रदेशाध्यक्ष केदार पटेल का कहना है कि किसानों की समस्याओं को देखते हुए तपती धूप में किसान सेना ने इंदौर से लेकर भोपाल तक किसान अधिकार पदयात्रा निकाली है। 

गौरतलब है कि किसान सेना ने एक जून से लेकर 10 जून तक किसान आंदोलन किया था जिसमें मुख्यमंत्री ने किसानों की अनेक समस्याओं के समाधान करने का आश्वासन दिया था। लेकिन आज दिनांक तक उन मांगो का निराकरण नही हो पाया है।

किसान सेना ने पदयात्रा के समापन के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम मांग पत्र भी सौंपा है इसमें

1.नगर तथा ग्राम निवेश विधि मान्यकरण अधिनियम 2016-17 में जो विसंगतिया है उन्हे हटाया जाये।

2.सभी किसानों के ऋण मुक्त किये जावे चाहे राष्ट्रीयकृत बैंक व सहकारी बैंको का ड्यू हो या ओव्हर ड्यू हो।

3.नर्मदा क्षिप्रा लिंक परियोजना का पानी कृषकों को शुल्क लेकर सिंचाई हेतु उपलब्ध कराया जावे और उज्जैनी से उज्जैन तक पानी ले जाने वाली पाईप लाईन को निरस्त किया जावे एवं सहायक नदियां जैवंती व आसामती नदियों में भी पानी छोडा जावे।

4.भावांतर योजना में मॉडल रेट समाप्त कर शासन द्वारा घोषित मूल्य किसानों को मिलना चाहिए। ।

5.कृषि विभाग व उद्यानिकी विभाग द्वारा किसानों के नाम पर की जाने वाली सभी प्रकार की खरीदी को तुरंत रोकी जावे व उनकी राशि सीधे किसानों के खाते में 30 दिन में प्रदान की जावे इसके साथ ही किसानों द्वारा खरीद जाने वाले कृषि यंत्र, मशीनरी आदि पर एमपी एग्रो की मध्यस्था समाप्त की जावे।

6.शहरी या ग्रामीण सिलींग की भूमि जिस पर शासन का नाम दर्ज हो चुका है जागिरदारी की भूमि जिस पर पीढियों से किसान खेती कर रहा है कब्जेधआरी किसान का नाम दर्ज होना चाहिए।

7.मुख्यमंत्री महोदय द्वारा अमूल की तर्ज पर सांची डेयरी का संचालन किया जावे साथ ही 6 फेट का खुला दूध 50 रुपये लीटर किसानो को दाम मिले इसकी समुचित व्यवस्था की जाए।

किसान सेना किसानों की कई मांगो को राज्य और केन्द्र के सामने रखेगा जिससे उन्हे न्याय मिल सके। किसान सेना ने चेतावनी दी है कि उऩकी मांगो का निराकरण शीघ्र नही किया गया तो वे मध्यप्रदेश में बडां आंदोलन खडा करेंगे।

भवदीय
जगदीश रावलिया
सचिव, किसान सेना
9755099910, 9827310409

Related Posts

Subscribe Our Newsletter