कानपुर से रीवा तक पहुंची मूक बधिर प्यार की आवाज

इंदौर। उत्तरप्रदेश के कानपुर में रहने वाला 28 साल का मूक बधिर युवक और मध्यप्रदेश के रीवा की 26 साल की मूक बधिर युवती एक-दूसरे को पांच साल से चाहते थे। सोशल मीडिया से संपर्क में आया युगल शादी करना चाहता था, लेकिन युवती का परिवार दूरी के कारण शादी के खिलाफ था। युगल ने इंदौर स्थित मूकबधिर सहायता केंद्र से मदद मांगी। यहां से करीब आठ महीने तक परिवार की टेलिफोन पर काउंसिलिंग की गई और बीते हफ्ते परिवार ने खुशी-खुशी दोनों का विवाह कर दिया।

मूक बधिर सहायता केंद्र की मोनिका पुरोहित ने बताया कि दोनों युवक-युवती एक-दूसरे से काफी प्रेम करते थे। प्रतिदिन वीडियो कॉल कर दोनों काफी रोते थे। युवती के परिवार वाले रीवा और कानपुर के बीच की लंबी दूरी के कारण सहमत नहीं हो रहे थे।

युवक का नाम अमित चतुर्वेदी जबकि युवती का नाम स्वाति मिश्रा है। युवक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता है। पुरोहित के मुताबिक आठ माह तक दोनों परिवार को समझाइश देने की कोशिश की गई। स्थानीय वॉलेंटियर द्वारा लगातार अभिभावकों से चर्चा की गई। इसके कारण परिवार में भी काफी विवाद होने लगे थे, लेकिन उन्हें कई उदाहरण देकर समझाया गया। बच्चों की खुशी के आगे परिजन मान गए। मई के दूसरे सप्ताह में मूक बधिर युवक अमित का परिवार बरात लेकर रीवा पहुंचा, जहां दोनों की धूमधाम से शादी हुई।

Related Posts

Subscribe Our Newsletter