बिना कष्ट सहे मां और महात्मा नहीं बना जा सकता

BHOPAL: परम पावन पुरुषोत्तम मास के अवसर पर जैताढाना (खारी) में चल रही श्रीमद्भागवत कथा अमृत वर्षा के तीसरे दिन गौवत्स पं. अंकितकृष्णजी महाराज ने कहा कि जिस प्रकार बिना तुलसी दल के ठाकुर जी प्रसाद ग्रहण नहीं करते। उसी प्रकार बिना त्याग के जीव का भक्तिमार्ग अधूरा माना गया है। क्योंकि बिना कष्ट सहे मां और महात्मा नहीं बना जा सकता। वटुकजी महाराज ने ध्रुवजी के पावन प्रसंग को श्रवण कराते हुए कहा कि बालक ध्रुव ने बाल्यावस्था में जगत का त्याग करके मां के वचनों को श्रवण करके मधुवन में जाकर सदगुरु की शरण ग्रहण करके नारायण की भक्ति करी। उसी भक्ति के प्रताप से अल्प समय में भगवान को प्राप्त कर लिया। और परम पद को प्राप्त करके ध्रुव तारा के रूप में आज भी विद्यमान है। बटुकजी महाराज ने कहा कि संसार में रहना बुरा नहीं है। संसार में रहो। लेकिन संसार के होकर मत रहो।

संत- सदगुरु का आश्रय ग्रहण करके अपने ग्रहस्थ आश्रम का सविधि पालन करो । बटुकजी महाराज ने वर्तमान की दशा पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि आज हम अपनी संतान को सर्वस्व दे रहे हैं।लेकिन संस्कारों के अभाव से हमारी संतान गर्त में जा रही है। अजामिल ने श्रेष्ठ कुल में जन्म लिया। लेकिन कुसंग में पढ़कर अपने सारे जीवन को बर्बाद कर लिया। जिसके फलस्वरुप भगवत मार्ग से विमुख हो गया। बटुकजी महाराज ने कहा कि मनुष्य जन्म से महान नहीं होता। वह अपने कर्मों से महान होता है श्रेष्ठ कर्म के प्रताप से वह अपने कुल और राष्ट्र दोनों का कल्याण करता है। जिस प्रकार रावण ब्राह्मण कुल में जन्म लेकर अपने बुरे कर्मो के फलस्वरूप राक्षस जाति को प्राप्त हो गया। और भक्तराज प्रहलाद ने दैत्यों के कुल में जन्म लेकर अपने श्रेष्ठ कर्मो के द्वारा भगवान के परम पद को प्राप्त किया। 

कथा के अन्तर्गत महाराजजी ने जडभरत उपाख्यान, महाराज पृथु का चरित्र, पुरंजन उपाख्यान आदि कथाओं को विस्तार पूर्वक श्रवण कराया। कथा में शनिवार को प्रभु बालकृष्ण लाल का भव्य प्राकट्योत्सव मनाया जायेगा। कथा में प्रतिदिन सैकड़ों श्रद्धालु सम्मिलित होकर कथा का रसास्वादन कर रहे हैं। कथा प्रतिदिन दोपहर 2बजे से 5बजे तक एवं रात्रि 9बजे से 12बजे तक हो रही है। कथा में प्रतिदिन अनेक उत्सव मनाये जा रहें हैं। आयोजन समिति के कैलाश पवार ने सभी क्षेत्रवासियों से अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर धर्म लाभ लेने की अपील की।

Post a Comment

0 Comments