Samarpan Imagine Solutions guilty of lack of service: Consumer forum

Samarpan Imagine Solutions नाम की पैथोलॉजी लैब पर आरोप है कि उसने पथरी से पीड़ित मरीज की जांच रिपोर्ट में मरीज को पीलिया से पीड़ित बता दिया। डॉक्टर ने लैब की जांच रिपोर्ट के आधार पर मरीज को दवाइयां खिलाना शुरू कर दिया। जब आराम नहीं मिला तो मरीज ने फिर से जांच कराई। तब कहीं जाकर पैथोलॉजी की पोल खुली। मरीज ने लैब के खिलाफ उपभोक्ता फोरम में केस ठोक दिया। फोरम ने समर्पण इमेजिंग सॉल्यूशंस को सेवा में कमी का दोषी पाते हुए जुर्माना लगाया है।

जिला उपभोक्ता फोरम ने लापरवाही मानते हुए आदेश दिए हैं कि मरीज को 25 हजार रुपए और जांच रिपोर्ट की राशि व अन्य मदों का भुगतान किया जाए। तय समय में पैसा नहीं दिया तो ब्याज भी भुगतना होगा। फोरम के अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा और सुमित्रा हाथीवाला ने यह आदेश जारी किया। उन्होंने डॉक्टर अमित कुमार तिवारी की ओर से पेश की गई सभी दलीलों को गलत पाया है।

मो. युनूस अंसारी नामक व्यक्ति ने समर्पण इमेजिंग सॉल्यूशंस के डाॅ. अमित कुमार तिवारी से 19 अक्टूबर को 2016 को जांच कराई थी। उन्हें पेट में बायीं तरफ दर्द होता था। पथरी हाेने की आशंका में डाॅक्टर ने जांच कराने के लिए कहा था। जांच करने वाली समर्पण इमेजिंग सॉल्यूशंस लैब ने उन्हें पीलिया होने की रिपोर्ट थमा दी। इसी रिपोर्ट के आधार पर डाॅक्टर ने इलाज शुरू कर दिया। इसके बाद अन्य लैब से जांच कराई तो दाे सेंटीमीटर की पथरी होना बताया गया।

गलत दवाइयां लीं, फिर सही इलाज के लिए खर्च किए काफी रुपए

पहली लैब की जांच रिपाेर्ट में लापरवाही के कारण मो. युनूस पहले तो गलत दवाइयां लेते रहे। फिर सही इलाज के लिए भी काफी पैसा खर्च करना पड़ा। इस पर फोरम में परिवाद दायर किया। डाॅ. तिवारी की ओर से जवाब के रूप में सिटी स्कैन रिपोर्ट और अन्य दस्तावेज पेश किए गए। इसमें रिपोर्ट सही होने का दावा किया गया। फोरम ने दोनों पक्षाें को सुनने के बाद फरियादी के पक्ष में फैसला दिया।

This news related to: Dhar district, Madhya Pradesh, dr Amit Kumar Tiwari, Samarpan Imagine Solutions pathology lab, mohammad Yunus Ansari, consumer forum, chairman Omprakash Sharma and Sumitra Hathiwala

Post a Comment

0 Comments