Business

header ads

बाल कविता: रेल चली भई, रेल चली

रेल चली भई, रेल चली।
सबको संग में लेके चली।।

अनार बना था उसमें टीटी,
बजाये अंगूर हाथ ले सीटी।
पहले बैठे सेब और केला,
सब देखन को चले हैं मेला।।

दूजे डिब्बे बैठा आम,
सुबह से देखो हो गई शाम।
तीजे में बैठा मोटा अनानास,
रुकी गाड़ी उतरने का प्रयास।।

फिर आई लीची की बारी,
उतर चली वो सम्भाल के साड़ी।
फिर बैठे पपीता भारी,
करें मौज सब बारी-बारी।।

तरबूज भी करता अपना काम।
करो तुम याद फलों के नाम।।

रचनाकार-
आयुषी अग्रवाल (स०अ०)
कम्पोजिट विद्यालय शेखूपुर खास
कुन्दरकी (मुरादाबाद)
पता- रामलीला मैदान के सामने कुन्दरकी, मुरादाबाद
व्हाट्सएप्प नंबर- 9548140451